Bhavbhoomi

Just another weblog

13 Posts

40 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8186 postid : 940273

आज भींग लूँ मैं जल की धारों में

Posted On: 12 Jul, 2015 Contest में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज भींग लूँ मैं जल की धारों में

तीव्र पवन के झोंके ,हटा ग्रीष्म का ताप
दौड़ –दौड़ वारिद रहे गगन में दूरी नाप
झूम उठे तरुदल , थिरक रहे हैं पत्ते
संग पवन के मानो अठखेली करते
झम –झम बरसे मेघ दिशा चारों में
आज भींग लूँ मैं जल की धारों में .

ऊँचे भवनों में मानो बंदी तन –मन
प्रकृति से दूर रहो तो नीरस है जीवन
वसन जो भींगेगे तो सूख पुनः जाएँगे
आज भींगने का आनंद छोड़ न पाएंगे
कितने संदेश छिपे हैं इन फुहारों में
आज भींग लूँ मैं जल की धारों में .

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran